You are here

बुुंदेलखंड: ‘सवर्णों के भगवान’ के मंदिर में दलित ने घुसने की कर दी जुर्रत, बुरी तरह पीटा गया

नई दिल्ली। ललितपुर। नेशनल जनमत ब्यूरो।

यूपी मे सीएम योगी के नेतृत्व में भाजपा की सरकार बनते ही दलितों के खिलाफ सवर्णों की हिंसा बढ़ती ही जा रही है। योगी पुलिस अपराधियों के खिलाफ कोई कार्रवाई न करके अपराधियों के मनोबल को और बढ़ा रही है। सहारनपुर में दलितों के खिलाफ ठाकुर जाति के लोगों द्वारा फैलाई जातीय हिंसा के फैलने का एक बड़ा कारण पुलिस प्रशासन की निष्क्रियता भी बताई जा रही है। जिसके चलते वहां दलितों के खिलाफ हिंसा बड़े पैमाने पर फैल सकी।

इसे भी पढ़ें…महंत आदित्यनाथ की शिक्षा-दिक्षा ही मनु स्मृति पर आधारित है लेकिन यूपी पुलिस को ये क्या हो गया है?

दलितों के खिलाफ हिंसा का एक और मामला ललितपुर जिले के जाखलौन थाना क्षेत्र के ग्राम कपासी से भी सामने आया है। इस गांव के एक दलित युवक के गांव में बने मंदिर में प्रवेश करने पर सवर्ण समुदाय के कुछ लोगों पर मारपीट, गाली-गलौज करने समेत जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाया है। पीड़ित ने पुलिस अधीक्षक को शिकायती पत्र देकर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

ग्राम कपासी निवासी रमेश कुमार अहिरवार ने शिकायती पत्र में बताया कि तीन जुलाई की शाम करीब साढ़े सात बजे वह अपने घर के पास बने मंदिर में जा रहा था। इसी दौरान मंदिर के बाहर खड़े गांव के ही एक सवर्ण समुदाय के युवक ने उसको रोक लिया और मंदिर में प्रवेश करने के कारण उसे थप्पड़ जड़ दिया। आरोप है कि आरोपी ने जाति सूचक शब्दों के साथ गालीगलौच करते हुए उसको मंदिर में ना घुसने की हिदायत दी।

इसे भी पढ़ें…बद्रीनाथ मंदिर के पूर्व पुजारी नंबूदिरी व सीईओ बीडी शर्मा पर महिला से छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज

परिजनों ने समझाने की बजाए और पीटा- 

कुछ समय बाद मारपीट करने वाले युवक के परिजन व अन्य लोग भी वहां आ गए और उसे बुरी तरह पीट दिया। जब पीड़ित की पत्नी और भाई बचाने के लिए आए तो आरोपियों ने उनके साथ भी मारपीट कर दी। साथ ही गाली-गलौज करके जाति सूचक शब्दों से अपमानित किया। पीड़ित ने चिकित्सीय परीक्षण कराकर आरोपियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग की है।

Related posts

Share
Share