You are here

योगीराज: ट्रेन में मुस्लिम परिवार पर भीड़ की शक्ल में आए गुंडों का हमला, विकलांग को भी पीटा

लखनऊ। नेशनल जनमत ब्यूरो

लगता है पूरे देश में जहां-जहां बीजेपी सरकार है वहां कट्टर मानसिकता के लोगों को खुली छूट दे दी गई है। इसलिए बीजेपी शासित राज्यों से मुस्लिमों पर भीड़ की शक्ल में गुंडों के हमला करने खबरें आम बात हो गई हैं।

अभी कुछ दिन पहले ही बीजेपी शासित हरियाणा के बल्लभगढ़ स्टेशन के पास ट्रेन में ही भीड़ ने मुस्लिम भाईयों पर हमला कर दिया।  इसमें जुनैद नाम के एक मुस्लिम युवक की मौत हो गई थी। ऐसी ही एक घटना भाजपाई सीएम योगी अादित्यनाथ के राज्य उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद से आई है। जहां एक मुस्लिम परिवार पर चलती ट्रेन में भीड़ ने हमला कर दिया।

इसे भी पढ़ें-मुस्लिमों को देश से भगाने वाले बयानवीर बीजेपी एमएलए का नया पैंतरा, सुरक्षा दो मुझे धमकी मिल रही है

मुस्लिम परिवार की रॉड से पिटाई करने के साथ ही परिवार से लूटपाट भी की गई साथ ही सांप्रदायिक गालियां भी दी गईं। हमलावरों का प्रहार इतना ज्यादा था कि हमले के बाद पीड़ित परिवार के सदस्यों को हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया। दुख की बात यह है कि हमलावरों ने दिव्यांग बच्चे को भी नहीं छोड़ा, उसे भी पीट-पीटकर अधमरा कर दिया।

एनडीटीवी की खबर के अनुसार, दस सदस्यों का मुस्लिम परिवार एक शादी के कार्यक्रम में शरीक होने के बाद अपने शहर से लौट रहा थे। इसी बीच हमलावरों ने परिवार पर हमला कर दिया। हमले का कारण स्पष्ट नहीं हो सका। हालांकि पुलिस का कहना है कि दिव्यांग बच्चे से मोबाइल फोन छीने जाने के कारण झगड़ा शुरू हुआ था।

इसे भी पढ़ें- बीजेपी सांसद रूपा गांगुली का शर्मनाक बयान- अपनी बहन-बेटियों को बंगाल भेजो 15 दिन में ही रेप हो जाएगा

कहासुनी के बाद हमले की आशंका के चलते परिवार ने अपनी बोगी के दरवाजे बंद कर दिए थे, लेकिन हाथ में डंडे लिए भीड़ भीड़ फिर भी बोगी में घुस गई। अस्पताल में भर्ती परिवार की एक महिला सदस्य ने कहा कि वे लोग हमें लगातार पीटते रहे, हमारे गहने लूट ले गए। परिवार के एक व्यक्ति ने रोते हुए कहा कि उनके छोटे बच्चे को भीड़ ने थप्पड़ मारे और पिटाई की।  हमले के समय हमले इमरजेंसी नंबर 100 पर फोन भी किया लेकिन पुलिस नहीं आई।

देश में धर्म के नाम पर हिंसा बढ़ती जा रही है। भीड़ में नफरत इस कदर घोल दी गई है कि वह बीफ या धर्म के नाम पर हत्या करने से भी चूक नहीं रही। अफवाहों के चलते दलित और मुस्लिम समुदाय के लोगों को निशाना बनाया जा रहा है। पिछले कुछ महीनों में ऐसी दर्जनों घटनाएं सामने आ चुकी हैं।

Related posts

Share
Share