You are here

रामराज: अपहरण करके 5 दिन तक पटेल युवती से गैंगरेप,आरोपी ठाकुरों पर केस दर्ज नहीं कर रही UP पुलिस

नई दिल्ली/प्रतापगढ़। नेशनल जनमत ब्यूरो 

अखिलेश सरकार को जातिवादी सरकार कहकर सत्ता में आई योगी सरकार में प्रदेश की बहुसंख्यक आबादी ( दलित-पिछड़े-मुस्लिम) के खिलाफ अपराधों में तेजी से इजाफा हुआ है। खास तौर पर जहां आरोपी मुख्यमंत्री अजय सिंह बिष्ट उर्फ योगी आदित्यनाथ के सजातीय हों वहां अपराध पर लगाम तो दूर अपराधी के खिलाफ रिपोर्ट तक दर्ज नहीं की जाती। जौनपुर के बाद अब प्रतापगढ़ में ऐसा ही एक मामला सामने आया है।

अभी जौनपुर में यादव लड़की के साथ चन्दवक बलात्कार की घटना में पुलिस की रवैये को लोग भूले भी नहीं थे कि प्रतापगढ़ में पटेल बिरादरी की एक युवती के साथ बलात्कार का मामला सामने आया है। इसम मामले में भी प्रतापगढ़ पुलिस, जौनपुर पुलिस के नक्शे कदमों पर ही चलती नज़र आ रही है।

गैंगरेप के गंभीर आरोप के बाद भी आरोपियों की गिरफ्तारी तो दूर पुलिस एक ठाकुर समाज के मंत्री के दवाब में रिपोर्ट तक दर्ज नहीं कर रही है। इस मामले की खबर सोशल मीडिया पर वायरल होते ही पूरे प्रदेश के कुर्मी समाज में योगी सरकार के प्रति आक्रोश की लहर है। पटेल समाज के लोगों का आक्रोश इस बात को भी लेकर है कि स्थानीय सांसद हरवंश सिंह भी आरोपियों को बचा रहे हैं।

क्या है मामला- 

प्रतापगढ़ जिले के थाना आसपुर देवसरा क्षेत्र के उदई शाहपुर निवासी कुर्मी (पटेल) समाज के एक गरीब परिवार की बेटी को ठाकुर बिरादरी के लल्लू सिंह व गोरे सिंह गांव से 10 km दूर ढकवा बाजार के पास से एक गांव में उठा ले गए। आरोप है कि दोनों ने वहीं एक घर मे बंधक बनाकर 5 दिनों तक लड़की से बलात्कार किया। किसी तरह पिता ने लड़की को बरामद करवाया।

पट्टी तहसील क्षेत्र के उदई शाहपुर गांव निवासी दुखी माता-पिता ने बताया कि 4 सितंबर शाम 7 बजे शौच को जाते वक्त गांव के ही लल्लू सिंह व गोरे सिंह मुंह बांध कर बाइक से आए और मुंह दबाकर ढकवा बाजार के पास मल्हीपुर गांव में प्रीति रजक के घर पर मेरी बेटी को उठा ले गए और 5 दिन तक दुराचार किया।

गांव में काफी खोजबीन के बाद भी जब बेटी के ना मिलने के बाद 5 सितंबर की सुबह पिता राधेश्याव वर्मा ने (बदला नाम) देवसरा थाने में तहरीर दी। जिस पर पुलिस ने सक्रियता दिखाते हुए 3 दिन बाद गांव के ही एक युवक को पूछताछ के लिए उठा लिया और पूछताछ करने के बाद छोड़ दिया। आरोपी पकड़े जाने के डर से 9 तारीख की दोपहर आरोपी गांव के पास ही लड़की को स्कूल पर छोड़कर भाग गए।

इस मामले की लिखित तहरीर पीड़िता ने थानाध्यक्ष से लेकर पुलिस अधीक्षक तक को दी। लेकिन पुलिस मामले की जांच तो दूर रिपोर्ट तक लिखने को तैयार नहीं है। थक हारकर पीड़िता ने 20 सितंबर तक रिपोर्ट ना दर्ज होने पर मुख्यमंत्री आवास पर सपरिवार आसपुर देवसरा एसओ के खिलाफ आत्मदाह की चेतावनी दी है।

(प्रतापगढ़ से सूरज वर्मा की रिपोर्ट)

पूर्व DGP का सनसनीखेज खुलासा, चारा घोटाले में लालू यादव को साजिशन फंसाया गया !

सोशल मीडिया को हथियार बनाकर सत्ता में आई मोदी-शाह जोड़ी, आज उसको गाली क्यों दे रही है?

जब PM मोदी के साथ फोटो खिंचाते हुए असहज हो गईं जापान के PM की पत्नी, देखें वायरल वीडियो

योगी के जंगलराज में मोदी के मंत्री की बहन भी सुरक्षित नहीं, बरेली में अपहरण का प्रयास

पटेल-दलित वोट खिसकने की आहट से डरी बीजेपी, OBC सम्मेलनों में फिर से बोलेगी ‘PM मोदी OBC हैं’

आप लिपटे रहिए धर्म की चासनी में, यहां देश में पहली बार जाति के नाम पर बन गया ‘ब्राह्मण आयोग’

संयुक्त राष्ट्र संघ ने गाय के नाम पर हिंसा और पत्रकारों की हत्या पर पीएम मोदी की आलोचना की

Related posts

Share
Share