You are here

योगीराज: ध्वस्त कानून व्यवस्था के चलते, जून में चुनाव नहीं करा पाएगा निर्वाचन आयोग !

बरेली। नेशनल जनमत संवाददाता

उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति बद से बदतर होती जा रही है.आए दिन लूट, हत्या, अपहरण और बलात्कार की खबरें सुनने को मिल रही हैं. कानून व्यवस्था की स्थिति पर अखिलेश राज को यादव राज बताने वाले भाजपाई आज चुप हैं, मीडिया गिरती कानून की साख पर पर्दा डालने में लगा है. ऐसी स्थिति में कानून व्यवस्था की खराब स्थिति को लेकर निकाय चुनाव का टलना योगीराज के लिए अच्छे संकेत नहीं हैं.

प्रदेश में अपराध और अपराधी बढ़े हैं निर्वाचन आयुक्त-

बरेली में समीक्षा बैठक लेने के बाद राज्य निर्वाचन आयुक्त एस.के. अग्रवाल ने कहा कि उत्तर प्रदेश के ज्यादातर जिलों में कानून व्यवस्था संतोषजनक नहीं है. श्री अग्रवाल ने कहा कि प्रदेश के तीन जोन में नगरीय निकाय चुनाव तैयारी की समीक्षा कर चुका हूं, बरेली जोन में चौथी बैठक है, इन सभी जोन के ज्यादातर जिलों में कानून व्यवस्था संतोषजनक नहीं है.

इन चारों जोन के ज्यादातर जिलों में अपराध और अपराधी बढे हैं, पुलिस अपेक्षित कार्रवाई नहीं कर रही है इसलिए पुलिस विभाग से कहा गया है कि कानून व्यवस्था दुरुस्त करने को कठोर कदम उठाएं. चुनाव से पहले अपराधी जेल में होना चाहिए. और अगर सब कुछ ठीक-ठाक रहा तो ही नगरीय निकाय चुनाव कार्यक्रम छह या सात जून को घोषित किया जाएगा.

दिन ब दिन बिगड़ रही है कानून व्यवस्था-

प्रदेश की बिगड़ती कानून व्यवस्था पर पूर्व डीआईजी डीके चौधरी सवाल करते हैं कि सरकार को दो महीने से ऊपर हो गए हैं अभी तक सीएम ने प्रदेश के पुलिस अधिकारियों को लखनऊ बुलाकर कानून व्यवस्था पर मीटिंग क्यों नहीं ली. जब तक सरकार की प्राथमिकता में अपराध रोकना नहीं होगा हालात बिगड़ते जाएंगे. सरकार में शामिल अगर लोग गड़बड़ करते हैं तो सबसे पहले उन्हें सजा दीजिए उससे सरकार की तरफ से सकारात्मक संदेश जाता है.

- 20 अप्रैल को सहारनपुर के दूधली गांव में एक जलूस निकालने को लेकर 2 वर्गों द्वारा एक-दूसरे पर भारी पथराव किया गया।
 -22 अप्रैल को आगरा में ताजमहल देखने आईं कुछ अंतर्राष्ट्रीय माडलों को ताजमहल परिसर में प्रवेश से पूर्व अपना भगवा ‘स्टोल’ उतारने के लिए कहने पर विवाद के बाद कुछ संगठनों द्वारा भारी हंगामा और तनाव।
 - इसी दिन फतेहपुर सीकरी में एक सर्कल ऑफिसर पर हमला, बाद में सदर पुलिस थाने पर आक्रमण और प्रतापपुरा में 2 समुदायों के बीच झड़पों के दौरान एक सब-इंस्पैक्टर के मोटरसाइकिल को आग लगा दी गई।
 -05 मई को सहारनपुर के एक गांव में बिना अनुमति जलूस निकालने के चलते 2 वर्गों के बीच झड़प में एक व्यक्ति की मृत्यु, अनेक घायल तथा एक वर्ग के सदस्यों के 50 मकान जला दिए गए।
 -09 मई को सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव में एक वर्ग के लोगों द्वारा पुलिस के विरुद्ध जबरदस्त प्रदर्शन।
 -09 मई को ही लखनऊ में दिन-दिहाड़े 2 बहनों व एक व्यापारी की हत्या।
 -11 मई को इटावा जिले में ओरैया के कोतवाली इलाके में एल.एल.बी. की एक छात्रा को चलती कार में खींच कर 3 लोगों द्वारा गैंग रेप।
 -11 मई को ही सम्भल में साम्प्रदायिक तनाव।
 -12 मई को अलीगढ़ में भैंस काटने के आरोप में 6 लोगों की पिटाई।
 -13 मई को कौशांबी में नव-विवाहिता से रेप करके उसका शव जलाया।
 -14 मई को बरेली में प्रेमी जोड़े की हत्या।
 -15 मई रात को मथुरा में 8 बदमाशों का गिरोह एक जौहरी की दुकान पर धावा बोल कर 2 व्यक्तियों की हत्या और 3 अन्य को गंभीर रूप से घायल करने के बाद लगभग 4 करोड़ रुपए के गहने लूट कर घायलों को अपने पैरों के नीचे रौंदते हुए फरार हो गया।
 -16 मई को लखनऊ के गाजीपुर थाना क्षेत्र के इंदिरा नगर इलाके में 8वीं कक्षा की छात्रा से चलती कार में 3 लोगों द्वारा रात भर गैंग रेप।
 -17 मई को बस्ती में बलात्कार की शिकार एक 7 वर्षीय बच्ची की मौत के बाद आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर भारी प्रदर्शन
 -19 मई- फिरोजाबाद के उद्योग पति संजय मित्तल का दिनदहाड़े अपहरण.

Related posts

Share
Share